G-B7QRPMNW6J About Us


 

जय हिन्द Welcome To My Blogger Jyotish with AkshayG and We make your Future satisfactory with Planets जय हिन्द

Welcome !!

Astrology

Vastu

Numerology

You are welcome to Jyotish With AkshayG by AkshayG Sharrma.

Jyotish is my passion. Astrology describes your details.

Vastu and Numerology is Soul of your prosperity.

Horosocpe Matching make your life compatible.

About Us

Consultant Astrologer

AkshayGSharrma                                      

Jyotish with AkshayG

Make Your Future Satisfactory with Planets

"G" stands for A Galaxy is a collection of stars and planets that are held together by gravity. In the Milky Way, celestial bodies revolve around a central object. Earth's Galaxy is known as the Milky Way. Our solar system, which is made up of the Sun and the planets that revolve around it, is only a small part of that Galaxy. 

25 year’s Experience in Vedic Jyotish, Vastu and Numerology, Lucky Unlucky Phone no-etc, House no. etc. All type of Vastu as Houses, Factories, Schools, Hotels, and all type of Small and Big Industries..

Astrology is an ancient tool for understanding ourselves, other people, and the cycles of time. From an astrological perspective, each planet has an association, and depending on what zodiac sign the planets were in when you were born, it can influence your nature in different ways. It's about more than just your Sun sign too - Mars, Venus, and all the other planets have an impact as well!

By sharing which sign each planet was in at the time of birth, we can get to know ourselves - and our friends - Seriously

We Support You to Make Your Future Better 

About Us
AbouAt Us

हम "ज्योतिष विद अक्षय जी" [Jyotish  With  AkshayG] की वेबसाइट पर आप सभी का स्वागत करते हैं l आशा करते हैं कि आपको हमारे कंटेंट पसंद आते होंगे l इस वेबसाइट के माध्यम से हम आपके जीवन की मुश्किलों का हल निकालने की कोशिश करते हैं l हमारा लक्ष्य है कि आपका जीवन हमारे प्रयास से कुछ तो आसान बन ही जाए l राशिफल के माध्यम से आपको सतर्क करना,  पंचांग के माध्यम से आपको सही काम सही समय पर करने के लिए प्रेरित करना तथा त्योहारों पर पूजा विधि, सही समय इत्यादि से आपको अवगत कराना ही हमारा उद्देश्य है l 

फलित ज्योतिष उस विद्या को कहते हैं जिसमें मनुष्य तथा पृथ्वी पर, ग्रहों और तारों के शुभ तथा अशुभ प्रभावों का अध्ययन किया जाता है। ज्योतिष शब्द का यौगिक अर्थ ग्रह तथा नक्षत्रों से संबंध (सिद्धांत) ज्योतिष का भी बोध होता है, तथापि साधारण लोग ज्योतिष विद्या से फलित विद्या का अर्थ ही लेते हैं।
ग्रहों तथा तारों के रंग भिन्न-भिन्न प्रकार के दिखलाई पड़ते हैं, अतएव उनसे निकलनेवाली किरणों के भी भिन्न भिन्न प्रभाव हैं। इन्हीं किरणों के प्रभाव का भारत, बैबीलोनिया, खल्डिया, यूनान, मिस्र तथा चीन आदि देशों के विद्वानों ने प्राचीन काल से अध्ययन करके ग्रहों तथा तारों का स्वभाव ज्ञात किया। पृथ्वी सौर मंडल का एक ग्रह है। अतएव इसपर तथा इसके निवासियों पर मुख्यतया सूर्य तथा सौर मंडल के ग्रहों और चंद्रमा का ही विशेष प्रभाव पड़ता है। पृथ्वी विशेष कक्षा में चलती है जिसे क्रांतिवृत्त कहते हैं। पृथ्वी फलित ज्योतिष उस विद्या को कहते हैं जिसमें मनुष्य तथा पृथ्वी पर, ग्रहों और तारों के शुभ तथा अशुभ प्रभावों का अध्ययन किया जाता है। ज्योतिष शब्द का यौगिक अर्थ ग्रह तथा नक्षत्रों से संबंध रखनेवाली विद्या है। इस शब्द से यद्यपि गणित (सिद्धांत) ज्योतिष का निवासियों को सूर्य इसी में चलता दिखलाई पड़ता है। इस कक्षा के इर्द गिर्द कुछ तारामंडल हैं, जिन्हें राशियाँ कहते हैं। इनकी संख्या है। मेष राशि का प्रारंभ विषुवत् तथा क्रांतिवृत्त के संपातबिंदु से होता है। अयन की गति के कारण यह बिंदु स्थिर नहीं है। पाश्चात्य ज्योतिष में विषुवत् तथा क्रातिवृत्त के वर्तमान संपात को आरंभबिंदु मानकर, 30-30 अंश की 12 राशियों की कल्पना की जाती है। भारतीय ज्योतिष में सूर्यसिद्धांत आदि ग्रंथों से आनेवाले संपात बिंदु ही मेष आदि की गणना की जाती है। इस प्रकार पाश्चात्य गणनाप्रणाली तथा भारतीय गणनाप्रणाली में लगभग 23 अंशों का अंतर पड़ जाता है। भारतीय प्रणाली निरयण प्रणाली है। फलित के विद्वानों का मत है कि इससे फलित में अंतर नहीं पड़ता, क्योंकि इस विद्या के लिये विभिन्न देशों के विद्वानों ने ग्रहों तथा तारों के प्रभावों का अध्ययन अपनी अपनी गणनाप्रणाली से किया है। भारत में 12 राशियों के 27 विभाग किए गए हैं, जिन्हें नक्षत्र कहते हैं। ये हैं अश्विनी, भरणी आदि। फल के विचार के लिये चंद्रमा के नक्षत्र का विशेष उपयोग किया जाता है।

As a result, astrology is called that science in which the auspicious and inauspicious effects of planets and stars on man and on earth are studied. The yogic meaning of the word astrology is also the understanding of astrology (theory) related to planets and constellations, however, ordinary people take the meaning of astrology as a result of astrology.
The colors of planets and stars are seen in different types, so the rays emanating from them also have different effects. The scholars of India, Babylonia, Khaldiya, Greece, Egypt and China etc. studied the effect of these rays since ancient times and found out the nature of planets and stars. Earth is a planet in the Solar System. Therefore, it and its inhabitants are mainly affected by the Sun and the planets of the Solar System and the Moon. The Earth moves in a special orbit called an ecliptic. Earth-based astrology is called that science in which the auspicious and inauspicious effects of planets and stars on man and on earth are studied. The yogic meaning of the word astrology is the science related to planets and constellations. By this word, although the inhabitants of mathematics (theory) astrology see the sun moving in it. There are some constellations around this orbit, which are called zodiacs. Their number is Aries starts from the intersection of the equator and the ecliptic. This point is not stationary due to the motion of the ion. In Western astrology, 12 zodiac signs of 30 degrees each are visualized as the starting point of the current conjunction of the equator and the ecliptic. In Indian Astrology, Aries etc. is calculated from the Sampat point coming from the texts like Suryasiddhant etc. In this way, there is a difference of about 23 degrees between the western counting system and the Indian counting system. Indian system is Nirayana system. The scholars of the result are of the opinion that this does not make any difference in the result, because for this knowledge scholars of different countries have studied the effects of planets and stars with their own calculation system. There are 27 divisions of 12 zodiac signs in India, which are called Nakshatras. These are Ashwini, Bharani etc. The constellation of the Moon is specially used for the idea of ​​fruit.

About Us

Numerology is a Study of Numbers in your life, Numerology helps to Transform you and Navigate you for a better future . अंक ज्योतिष आपके जीवन में संख्याओं का एक अध्ययन है, अंक ज्योतिष आपको बदलने और आपको एक बेहतर भविष्य के लिए मार्गदर्शन करने में मदद करता है।

About Us

वास्तु शास्त्र घर, प्रासाद, भवन अथवा मन्दिर निर्माण करने का प्राचीन भारतीय विज्ञान है जिसे आधुनिक समय के विज्ञान आर्किटेक्चर का प्राचीन स्वरुप माना जा सकता है। वास्तु शास्त्र में पृथ्वी पर सबसे बड़े आर्किटेक्चर "विश्वकर्मा" भगवान है | जीवन में जिन वस्तुओं का हमारे दैनिक जीवन में उपयोग होता है उन वस्तुओं को किस प्रकार से रखा जाए वह भी वास्तु है वस्तु शब्द से वास्तु का निर्माण हुआ है|
Vastu Shastra is the ancient Indian science of building houses, palaces, buildings or temples, which can be considered as the ancient form of modern-day science architecture. In Vastu Shastra, the biggest architecture on earth is "Lord Vishwakarma". How to keep those things which are used in our daily life, that is also Vastu, the word Vastu has been created from the word Vaastu.

About Us


About Us

Thanks For Visiting

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ