G-B7QRPMNW6J घर के लिए रामा और श्‍यामा तुलसी के पौधे लगाने में अंतर और इनकी क्‍या खासियतें


 

जय हिन्द Welcome To My Blogger Jyotish with AkshayG and We make your Future satisfactory with Planets जय हिन्द

Welcome !!

Astrology

Vastu

Numerology

You are welcome to Jyotish With AkshayG by Akshay Jamdagni.

Jyotish is my passion. Astrology describes your details.

Vastu and Numerology is Soul of your prosperity.

Horosocpe Matching make your life compatible.

घर के लिए रामा और श्‍यामा तुलसी के पौधे लगाने में अंतर और इनकी क्‍या खासियतें

घर के लिए रामा और श्‍यामा तुलसी के पौधे लगाने में अंतर और इनकी क्‍या खासियतें 

घर के लिए रामा और श्‍यामा तुलसी के पौधे लगाने में अंतर और इनकी क्‍या खासियतें     तुलसी 2 प्रकार की होती है- रामा तुलसी और श्‍यामा तुलसी. आइए जानते हैं घर में कौनसी तुलसी लगाना शुभ होता है और इनकी क्‍या खासियतें हैं.  घर के लिए रामा और श्‍यामा तुलसी के पौधे लगाने में अंतर और इनकी क्‍या खासियतें   हिंदू धर्म में तुलसी को बहुत अहम और पूजनीय माना गया है. इसका घर में होना सुख-समृद्धि और सकारात्‍मकता लाता है. तुलसी 2 प्रकार की होती है- रामा तुलसी और श्‍यामा तुलसी. आइए जानते हैं घर में कौनसी तुलसी लगाना शुभ होता है और इनकी क्‍या खासियतें हैं.  रामा और श्‍यामा दोनों ही तुलसी बेहद शुभ होती हैं. दोनों ही पूजनीय हैं और इन दोनों की अपनी खासियतें हैं. यह दिखने में अलग-अलग होती हैं और इन्‍हें आसानी से पहचाना जा सकता है.  श्यामा तुलसी –   श्यामा तुलसी के पत्ते गहरे हरे रंग या बैंगनी रंग के होते हैं. हिंदू धर्म-शास्‍त्रों के मुलाबिक श्यामा तुलसी भगवान श्रीकृष्ण को बहुत पसंद थी. कान्‍हा का एक नाम श्‍यामा भी था. इसलिए इस तुलसी को श्‍यामा तुलसी कहते हैं. इसमें रामा तुलसी की तुलना में कम मीठापन होता है.  रामा तुलसी –   रामा तुलसी के पत्ते हरे रंग के होते हैं. मान्यता है कि रामा तुलसी भगवान राम को बहुत प्रिय थी इसलिए इसे रामा तुलसी कहते हैं. रामा तुलसी के पत्‍ते बहुत मीठे होते हैं और इसे घर में लगाना बहुत ही शुभ होता है. इसे लगाने से घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है. पूजा पाठ में रामा तुलसी का ही उपयोग किया जाता है.  घर में लगाने के लिए रामा और श्‍यामा दोनों ही तुलसी बहुत शुभ होती हैं. लेकिन पूजा-पाठ में रामा तुलसी का उपयोग होने के कारण अधिकांश घरों में रामा तुलसी ही लगाई जाती है. इससे तरक्‍की के रास्‍ते भी खुलते हैं. वहीं तुलसी लगाने के लिए सबसे शुभ दिन गुरुवार, शुक्रवार और शनिवार हैं. इन दिनों में तुलसी लगाने से भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी की कृपा से खूब धन, सुख मिलता है. वहीं एकादशी, ग्रहण के दिन, रविवार, सोमवार और बुधवार को तुलसी लगाना अशुभ माना जाता है. यहां तक कि एकादशी, रविवार और सूर्य ग्रहण, चंद्र ग्रहण में तुलसी के पौधे को छूना भी नहीं चाहिए. ना ही जल देना चाहिए.
घर के लिए रामा और श्‍यामा तुलसी के पौधे लगाने में अंतर और इनकी क्‍या खासियतें 

घर के लिए रामा और श्‍यामा तुलसी के पौधे लगाने में अंतर और इनकी क्‍या खासियतें 

हिंदू धर्म में तुलसी को बहुत अहम और पूजनीय माना गया है. इसका घर में होना सुख-समृद्धि और सकारात्‍मकता लाता है. तुलसी 2 प्रकार की होती है- रामा तुलसी और श्‍यामा तुलसी. आइए जानते हैं घर में कौनसी तुलसी लगाना शुभ होता है और इनकी क्‍या खासियतें हैं.

रामा और श्‍यामा दोनों ही तुलसी बेहद शुभ होती हैं. दोनों ही पूजनीय हैं और इन दोनों की अपनी खासियतें हैं. यह दिखने में अलग-अलग होती हैं और इन्‍हें आसानी से पहचाना जा सकता है.

श्यामा तुलसी – 

श्यामा तुलसी के पत्ते गहरे हरे रंग या बैंगनी रंग के होते हैं. हिंदू धर्म-शास्‍त्रों के मुलाबिक श्यामा तुलसी भगवान श्रीकृष्ण को बहुत पसंद थी. कान्‍हा का एक नाम श्‍यामा भी था. इसलिए इस तुलसी को श्‍यामा तुलसी कहते हैं. इसमें रामा तुलसी की तुलना में कम मीठापन होता है.

रामा तुलसी – 

रामा तुलसी के पत्ते हरे रंग के होते हैं. मान्यता है कि रामा तुलसी भगवान राम को बहुत प्रिय थी इसलिए इसे रामा तुलसी कहते हैं. रामा तुलसी के पत्‍ते बहुत मीठे होते हैं और इसे घर में लगाना बहुत ही शुभ होता है. इसे लगाने से घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है. पूजा पाठ में रामा तुलसी का ही उपयोग किया जाता है.

घर में लगाने के लिए रामा और श्‍यामा दोनों ही तुलसी बहुत शुभ होती हैं. लेकिन पूजा-पाठ में रामा तुलसी का उपयोग होने के कारण अधिकांश घरों में रामा तुलसी ही लगाई जाती है. इससे तरक्‍की के रास्‍ते भी खुलते हैं. वहीं तुलसी लगाने के लिए सबसे शुभ दिन गुरुवार, शुक्रवार और शनिवार हैं. इन दिनों में तुलसी लगाने से भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी की कृपा से खूब धन, सुख मिलता है. वहीं एकादशी, ग्रहण के दिन, रविवार, सोमवार और बुधवार को तुलसी लगाना अशुभ माना जाता है. यहां तक कि एकादशी, रविवार और सूर्य ग्रहण, चंद्र ग्रहण में तुलसी के पौधे को छूना भी नहीं चाहिए. ना ही जल देना चाहिए. 

तुलसी 2 प्रकार की होती है- रामा तुलसी और श्‍यामा तुलसी. आइए जानते हैं घर में कौनसी तुलसी लगाना शुभ होता है और इनकी क्‍या खासियतें हैं.

घर के लिए रामा और श्‍यामा तुलसी के पौधे लगाने में अंतर और इनकी क्‍या खासियतें 

हिंदू धर्म में तुलसी को बहुत अहम और पूजनीय माना गया है. इसका घर में होना सुख-समृद्धि और सकारात्‍मकता लाता है. तुलसी 2 प्रकार की होती है- रामा तुलसी और श्‍यामा तुलसी. आइए जानते हैं घर में कौनसी तुलसी लगाना शुभ होता है और इनकी क्‍या खासियतें हैं.

रामा और श्‍यामा दोनों ही तुलसी बेहद शुभ होती हैं. दोनों ही पूजनीय हैं और इन दोनों की अपनी खासियतें हैं. यह दिखने में अलग-अलग होती हैं और इन्‍हें आसानी से पहचाना जा सकता है.

श्यामा तुलसी – 

श्यामा तुलसी के पत्ते गहरे हरे रंग या बैंगनी रंग के होते हैं. हिंदू धर्म-शास्‍त्रों के मुलाबिक श्यामा तुलसी भगवान श्रीकृष्ण को बहुत पसंद थी. कान्‍हा का एक नाम श्‍यामा भी था. इसलिए इस तुलसी को श्‍यामा तुलसी कहते हैं. इसमें रामा तुलसी की तुलना में कम मीठापन होता है.

रामा तुलसी – 

रामा तुलसी के पत्ते हरे रंग के होते हैं. मान्यता है कि रामा तुलसी भगवान राम को बहुत प्रिय थी इसलिए इसे रामा तुलसी कहते हैं. रामा तुलसी के पत्‍ते बहुत मीठे होते हैं और इसे घर में लगाना बहुत ही शुभ होता है. इसे लगाने से घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है. पूजा पाठ में रामा तुलसी का ही उपयोग किया जाता है.

घर में लगाने के लिए रामा और श्‍यामा दोनों ही तुलसी बहुत शुभ होती हैं. लेकिन पूजा-पाठ में रामा तुलसी का उपयोग होने के कारण अधिकांश घरों में रामा तुलसी ही लगाई जाती है. इससे तरक्‍की के रास्‍ते भी खुलते हैं. वहीं तुलसी लगाने के लिए सबसे शुभ दिन गुरुवार, शुक्रवार और शनिवार हैं. इन दिनों में तुलसी लगाने से भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी की कृपा से खूब धन, सुख मिलता है. वहीं एकादशी, ग्रहण के दिन, रविवार, सोमवार और बुधवार को तुलसी लगाना अशुभ माना जाता है. यहां तक कि एकादशी, रविवार और सूर्य ग्रहण, चंद्र ग्रहण में तुलसी के पौधे को छूना भी नहीं चाहिए. ना ही जल देना चाहिए.


घर के लिए रामा और श्‍यामा तुलसी के पौधे लगाने में अंतर और इनकी क्‍या खासियतें 

Download

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ